You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

बुधवार, 19 जनवरी 2011

ताऊ के शव पर तंत्र क्रिया करते दबोचा

जोग्यूड़ा गांव में कथित प्रेत बाधा का मामला
दो भाई धरे, सुरक्षा के मद्देनजर पीएसी तैनात
नैनीताल (एसएनबी)। मुख्यालय के निकटवर्ती जोग्यूड़ा गांव में प्रेत बाधा से संबंधित ‘राष्ट्रीय सहारा’ में प्रकाशित खबर के मामले में आज नये खुलासे हुए हैं। मामले में मंगलवार को पड़ोसी वृद्ध को सोते हुए खेत में फेंकने वाले आरोपित को पुलिस ने बीती देर रात्रि ही गिरफ्तार कर लिया। वहीं बुधवार सुबह पता चला कि आरोपित का छोटा भाई घर का दरवाजा भीतर से बंद कर अपने मृत ताऊ के शव के साथ कथित तौर पर तांत्रिक क्रिया कर रहा था। पुलिस ने बमुश्किल घंटों की मशक्कत के बाद ग्रामीणों की मदद से शव को कब्जे में लेकर कथित तांत्रिक को गिरफ्तार कर लिया। उसे कई आपराधिक धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया गया है। 
मालूम हो, इस मामले में जोग्यूड़ा गांव में किशोर सिंह कनवाल के परिवार पर प्रेत बाधा बताई जा रही है। घर के सभी लोग बीते करीब एक सप्ताह से अजीबो- गरीब हरकतें कर रहे हैं। बीती रात्रि किशोर सिंह के पुत्र राजन सिंह ने रात्रि में घर में सो रहे पड़ोसी 84 वर्षीय बुजुर्ग दीवान सिंह कनवाल का दरवाजा तोड़कर उसे करीब आठ फीट नीचे खेत में फेंक दिया था, जिस कारण दीवान सिंह को काफी चोटें आई थीं। इस पर कोतवाली पुलिस ने बीती देर रात्रि उसके घर से गिरफ्तार कर लिया। इधर आज ग्राम प्रधान सुनीता देवी व आनंद सिंह, संजय सिंह, मोहन सिंह, कुंदन सिंह, ईर सिंह, देव सिंह, गोविंद सिंह व भूपाल सिंह आदि ने कोतवाली में शिकायत की कि गिरफ्तार किए गए राजन का छोटा भाई सुरेंद्र सिंह उर्फ सुनील तांत्रिक क्रिया करता है। उसके ताऊ मोहन सिंह पुत्र भवान सिंह की कल ही बीमारी के कारण मृत्यु हो गई थी। मोहन सिंह के शव को लेकर सुनील कमरे के भीतर कोई तांत्रिक क्रिया कर रहा है व शव अंत्येष्टि के लिए नहीं दे रहा है। इस पर कोतवाल बीएस धौनी, एसएसआई सलाउद्दीन व मंगोली चौकी पुलिस दल-बल के साथ गांव पहुंचे। बमुश्किल ग्रामीणों एवं गत दिवस ही गठित ग्राम सुरक्षा समिति की मदद से पुलिस दरवाजा तोड़कर भीतर घुसी जहां सुनील मृत ताऊ के शव तथा स्वयं को नग्न कर मल का लेप किये हुए था। उसने अपने पिता व बच्चों को भी भीतर बंधक बनाया हुआ था। पुलिस व ग्रामीणों को देखकर वह लाठी से प्रहार करने लगा। बमुश्किल उसे गिरफ्तार कर पुलिस ने शव को ग्रामीणों को अंत्येष्टि के लिए सौंप दिया। दोपहर बाद दोनों भाइयों का मेडिकल कराकर एसडीएम कोर्ट में पेश किया गया। राजन पर जानलेवा हमला करने के आरोप में सुनील पर पितापर मुकदमे पंजीकृत किए गए हैं। कोतवाल बीएस धौनी ने बताया कि ग्रामीणों ने उक्त परिवार से आगे भी प्रेत बाधा के प्रभाव में घरेलू जानवरों को खोल देने व हमला, गाली-गलौज करने जैसा खतरा बताया था, जिस पर गांव में एक पुलिसकर्मी तथा एक सेक्शन पीएसी को तैनात रखा गया है।
एक टिप्पणी भेजें