You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

रविवार, 11 अगस्त 2013

द्वितीय विश्व युद्ध के सेनानी देवी दत्त जोशी नहीं रहे



Amar Ujala-Almora edition- 10 Aug. 2013
कपकोट। द्वितीय विश्व युद्ध के सेनानी (The 12th Frountier Force Regiment, Sialkot में 03.05.1945 से 16.07.1946 तक कार्यरत रहे) तोली निवासी देवीदत्त जोशी (सिपाही 3429418) का करीब 100 साल की आयु में बृहस्पतिवार रात निधन हो गया। शुक्रवार को  पैत्रिक गांसू श्मशान घाट में पवित्र सरयू नदी के तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। विश्व युद्ध के दौरान वह सियालकोट क्षेत्र में तैनात रहे। स्व. जोशी युद्ध के बाद ब्रिटिश शासन के खिलाफ विद्रोह करने वाले सैनिकों में भी शामिल थे।
कपकोट ब्लाक के सुदूरवर्ती तोली गांव में स्व. दत्त राम जोशी के घर में जन्मे देवी दत्त जोशी बचपन से ही जुझारू प्रवृति के थे। वह ब्रिटिश भारतीय सरकार की सशस्त्र सेना में भर्ती हुए और द्वितीय विश्व युद्ध में उन्होंने बहादुरी के साथ मित्र देशों की सेनाओं के साथ मिलकर कर्तव्यनिष्ठा और बहादुरी का परिचय दिया। वह अधिकतर समय सियालकोट क्षेत्र में तैनात रहे। परिजनों के अनुसार 1946 के आसपास ब्रिटिश सरकार के खिलाफ वातावरण बनने लगा तो सेना में भी विद्रोह की स्थिति पैदा हो गई। 
Rashtriya Sahara-10 August 2013
भारतीय सैनिक ब्रिटिश अधिकारियों के खिलाफ बगावत करने लगे। इसके बाद सरकार ने 120 रुपये की पेंशन के साथ कई सैनिकों सहित श्री जोशी को भी सेवानिवृत्त कर दिया। उन्हें शांतिपुरी में 120 हेक्टेयर भूमि दी गई। श्री जोशी के परिजन तराई में बस गए किंतु वह पैतृक गांव तोली में ही रहे। बृहस्पतिवार की रात उनका निधन हो गया। आज पैत्रिक गांसू श्मशान घाट में पवित्र सरयू नदी के तट पर उनका अंतिम संस्कार किया गया। उनके पुत्र दामोदर जोशी, भोलादत्त जोशी, हरीश चंद्र जोशी ने चिता को मुखाग्नि दी। सबसे बड़े पुत्र केशव दत्त जोशी का पहले ही देहांत हो चुका है। श्री जोशी के पौत्र वरिष्ठ पत्रकार नवीन जोशी ने बताया कि अंतिम संस्कार में उनके सभी सात पोते शामिल हुए। श्री जोशी के निधन पर कपकोट के विधायक ललित फर्स्वाण, एडवोकेट चामू सिंह देवली, नारायण सिंह दानू, देवेंद्र मर्तोलिया, देवेंद्र गड़िया, नरेंद्र सिंह दानू आदि ने दु:ख जताया है।

स्वतंत्रता सेनानी देवी दत्त जोशी का निधन

बागेश्वर (एसएनबी)। आजाद हिंन्द फौज के सेनानी रहे देवी दत्त जोशी (100) का बृहस्पतिवार रात को तोली स्थित उनके पैतृक निवास पर निधन हो गया। निधन का समाचार सुनते ही क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई। कपकोट के पैत्रिक गांसू श्मशान घाट में पवित्र सरयू नदी के तट पर सैकड़ों नम आंखों के बीच दिवंगत स्वतंत्रता सेनानी की अत्येष्टि संपन्न हुई। मुखाग्नि उनके बड़े पुत्र व साहित्यकार दामोदर जोशी (देवांशु) व छोटे पुत्रों भोला दत्त व हरीश जोशी ने संयुक्त रूप से दी। 
उन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध में भी भाग लिया था। उनके पुत्र दामोदर जोशी उत्तराखंड के साहित्यकार तथा पौत्र नवीन जोशी वरिष्ठ पत्रकार हैं। जोशी के निधन पर पूर्व सीएम भगत सिंह कोश्यारी, विधायक ललित फर्स्वाण, पूर्व मंत्री बलवंत सिंह भौर्याल, विधायक चंदन राम दास,जिला पंचायत अध्यक्ष विक्रम सिंह शाही, ब्लॉक प्रमुख पुष्पलता मेहता के अलावा साहित्यकार व पूर्व सैनिक संगठनों के पदाधिकारियों ने शोक व्यक्त किया है।


दादाजी के अनुभवों के आधार पर लिखा गया एक आलेख, जो की उस दौर का एक ऐतिहासिक दस्तावेज भी है, इस लिंक पर: : http://www.merapahadforum.com/uttarakhand-history-and-peoples-movement/history-of-uttarakhand-from-the-eyes-of-elders/msg70052/#msg70052 



सम्बंधित लेख: http://mankahii.blogspot.in/2013/08/blog-post.html
एक टिप्पणी भेजें