You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

शुक्रवार, 30 अगस्त 2013

गुरुओं का हो रहा 'पलायन', चेले भगवान भरोसे

नवीन जोशी, नैनीताल। चेलों यानी छात्रों के ज्ञान अर्जित कर बेहतर अवसरों के लिए 'प्रतिभा पलायन' की खबरें तो आपने खूब सुनी होंगी, लेकिन गुरुजनों का भी 'प्रतिभा पलायन' होता है। विश्वविद्यालय अधिनियम में उपलब्ध 'असाधारण छुट्टी' की व्यवस्थाओं का लाभ उठाकर कुमाऊं विवि के आधा दर्जन से अधिक प्रोफेसर व एसोसिएट प्रोफेसर तीन से पांच वर्ष की लंबी छुट्टी पर चले गए हैं, और बेहतर सुविधाओं की मौज उड़ा रहे हैं। वहीं कुविवि में अपने मूल पदों पर भी उनका कब्जा बरकरार है। विवि की मजबूरी है कि इन पदों को रिक्त मानकर नई नियुक्तियां भी नहीं की जा सकतीं, लिहाजा मात्र 10 से 25 हजार के मानदेय पर उन्हें छह-छह माह के सीमित समय के लिए रखा जा रहा है। इससे यह संविदा भी अपना भविष्य अनिश्चित होने के मानसिक दबावों में हैं, और छात्रों को स्तरीय शिक्षा मिल पा रही है। देश के अन्य विवि सहित कुविवि में भी व्यवस्था है कि उच्च शिक्षा लेने जैसी 'असाधारण' परिस्थितियों में पहले तीन और दूसरी बार और दो यानी कुल पांच वर्ष के लिए विवि कार्य परिषद का अनुमोदन प्राप्त कर बिना वेतन के लंबे अवकाश पर जा सकते हैं। इस व्यवस्था का लाभ उठाकर विवि के अनेक प्रोफेसर लंबे अवकाश पर चले गए हैं और आईआईएम काशीपुर, उत्तराखंड मुक्त विवि व बनारस हिंदू विवि सरीखे अन्य संस्थानों में अधिक वेतन-सुविधाओं की मौज उड़ा रहे हैं। ऐसे में स्थिति यह है कि कुमाऊं विवि का तीन वर्ष पूर्व तक विवि के लिए बेहद लाभदायक रहा स्ववित्त पोषित आधार पर चलने वाला आईपीएसडीआर संस्थान यहां के तत्कालीन निदेशक डा. आरसी मिश्रा के जाने के बाद से अस्तित्वहीन हो गया है, और विवि की आय का एक बड़ा हिस्सा भी प्रभावित हुआ है। प्रोफेसरों के विवि छोड़कर जाने के पीछे विवि की अंदरूनी राजनीति भी एक बड़ा कारण बतायी जा रही है, जिसके तहत विरोधी विचारधारा के शिक्षकों को विवि छोड़ने को मजबूर कर दिया जाता है, और बाद में चहेतों को संविदा पर रखा जाता है। कुमाऊं विवि के कुलपति प्रो. होशियार सिंह धामी का कहना है कि विवि अधिनियम में ऐसी व्यवस्था है, लिहाजा वह इससे अधिक कुछ नहीं कह सकते। एबीबीपी के जिला संयोजक निखिल का कहना है कि शिक्षकों का बेहतर सुविधाओं के लिए अपने मूल छात्रों को उनके बेहतर शिक्षा के अधिकार से वंचित कर जाना भले विवि अधिनियम में गलत न हो, पर यह नैतिक रूप से गलत है। बेहतर हो कि ऐसे शिक्षक त्यागपत्र देकर ही अन्यत्र जाएं।

कुमाऊं विवि में 23 पदों को संविदा शिक्षकों से भरने की नौबत

नैनीताल। कुमाऊं विवि में प्रोफेसरों के लंबे अवकाश पर जाने के कारण रिक्त सहित कुल 23 पदों पर संविदा पर शिक्षकों की नियुक्तियां की जा रही हैं। विवि के कुलसचिव की ओर से जारी विज्ञप्ति में साफ किया गया है कि यह नियुक्तियां नितांत अस्थायी तौर पर केवल 31 दिसम्बर 2013 तक के लिए ही की जा रही हैं। इनमें डीएसबी परिसर नैनीताल के लिए संस्कृत, हिन्दी, अंग्रेजी, अर्थशास्त्र, राजनीतिशास्त्र, जंतु विज्ञान व सांख्यिकी विभागों में एक-एक, फार्मेसी व भूविज्ञान विभाग में दो-दो व भौतिकी विभाग में तीन सहित कुल 15 पद तथा एसएसजे परिसर अल्मोड़ा के लिए समाजशास्त्र, राजनीतिशास्त्र, वनस्पतिविज्ञान, गणित, सांख्यिकी व सूचना प्रोद्योगिकी में एक-एक तथा शिक्षा विभाग में दो सहित कुल आठ पद शामिल हैं।

लंबे अवकाश पर जाने वाले शिक्षक


  1. डा. केएन बधानी-एसोसिएट प्रोफेसर-वाणिज्य विभाग, डीएसबी परिसर, नैनीताल।
  2. डा. आरसी मिश्रा-प्रोफेसर- वाणिज्य विभाग, डीएसबी परिसर, नैनीताल। 
  3. डा. गिरिजा प्रसाद पांडे-एसोसिएट प्रोफेसर-इतिहास विभाग, डीएसबी परिसर, नैनीताल।
  4. डा. एचएस अस्थाना-एसोसिएट प्रोफेसर-मनोविज्ञान विभाग, एसएसजे अल्मोड़ा परिसर। 
  5. डा. दुर्गेश पंत- प्रोफेसर-कम्प्यूटर विभाग, एसएसजे परिसर, अल्मोड़ा। 
  6. डा.एचएस झा, प्रोफेसर-समाजशास्त्र, डीएसबी परिसर, नैनीताल। 
  7. डा. विजय जुयाल- प्रोफेसर-फाम्रेशी, भीमताल परिसर। 
  8. प्रो.एचपी शुक्ला- अंग्रेजी विभाग, डीएसबी परिसर नैनीताल।
एक टिप्पणी भेजें