You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

शनिवार, 7 जुलाई 2012

हल्द्वानी-नैनीताल राष्ट्रीय राजमार्ग पर "एमबीटी" से नयी मुसीबत

  • पहेली बना दो किमी क्षेत्र में दर्जन भर जगहों पर भूस्खलन
  • भू वैज्ञानिक का दावा- एमबीटी हुआ सक्रिय 
  • बल्दियाखान-नैना गांव के बीच खतरनाक हुआ राष्ट्रीय राजमार्ग

नवीन जोशी, नैनीताल। हल्द्वानी-नैनीताल राष्ट्रीय राजमार्ग पर बल्दियाखान और नैना गांव के बीच एक नई आफत उभर आई है। अब तक हर तरह से सुरक्षित माना जाने वाला राजमार्ग का यह हिस्सा बीते तीन दिनों से लगातार जगह- जगह दरक रहा है। मार्ग पर करीब दो किमी के दायरे में ही एक दर्जन स्थानों पर भारी मात्रा में भूस्खलन हो रहा है। इसमें आधा दर्जन स्थान तो ऐसे हैं, जिन पर लगातार भू स्खलन जारी है। इससे मार्ग पर वाहनों का आवागमन बुरी तरह प्रभावित हो रहा है। राजमार्ग का शेष हिस्सा जहां सुरक्षित है, अभी अधिक बारिश भी नहीं हुई है, ऐसे में इस छोटे से हिस्से में इतने व्यापक पैमाने पर हो रहा भूस्खलन पहेली बना हुआ है। 
गौरतलब है कि नगर एवं आसपास के क्षेत्र में जुलाई माह शुरू होने के बाद ही बारिश का मौसम शुरू हुआ है। इस दौरान करीब 300 मिमी बारिश ही रिकार्ड की गई है। खास बात यह है कि गत वर्षो के सर्वाधिक भूस्खलन प्रभावित भुजियाघाट व अन्य क्षेत्र अभी तरह पूरी तरह सुरक्षित हैं। पांच जुलाई की शाम सामान्य बारिश के बाद ही बल्दियाखान से आगे हनुमान मंदिर से लेकर नैनागांव के बीच एक दर्जन स्थानों पर भूस्खलन होने से सड़क बंद हो गई थी। इसे दुरुस्त करने के लिए दो जेसीबी मशीनों को मौके पर तैनात किया गया। तभी से ये दोनों मशीनें इस क्षेत्र में लगातार मलबा हटाने में जुटी हुई हैं, लेकिन मलबा रुकने का नाम नहीं ले रहा है। कुछ लोग इस भूस्खलन का कारण बादल फटना मान रहे हैं तो कुछ गरमियों में लगी भीषण आग को वजह बता रहे हैं। उधर, कुमाऊं विवि के भूविज्ञान विभाग में तैनात यूजीसी के वैज्ञानिक डा. बीएस कोटलिया का कहना है कि इस क्षेत्र में उत्तर भारत के बड़े भ्रंशों में से एक एमबीटी यानी मेन बाउंड्री थ्रस्ट गुजर रहा है। इसे बलियानाला में बीरभट्टी से नीचे व बल्दियाखान की ओर निहाल नाले में पातीखेत के पास लगातार हो रहे भूधंसाव के रूप में साफ देखा जा सकता है। इसके साथ ही बल्दियाखान के ठीक पहले के गदेरे में मध्य हिमालय का पहाड़ निम्न हिमालय के शिवालिक पहाड़ पर चढ़ा हुआ है। डा. कोटलिया का दावा है कि क्षेत्र में एमबीटी सक्रिय हो गया है। इस बारे में वे वर्षो से चेतावनी देते रहे हैं। उनका कहना है कि आगे भी यहां भूस्खलन जारी रह सकता है।


राष्ट्रीय सहारा  के 8 जुलाई के अंक में प्रथम पेज पर भी देख सकते हैं
एक टिप्पणी भेजें