You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

सोमवार, 19 दिसंबर 2011

तो, बेहोश होना हो-होश में आने की कोई तमन्ना न हो, तभी आयें नैनीताल

क्योंकि यहाँ बेहोश करने को हैं चार डाक्टर और होश में लाने को केवल एक....

एक टिप्पणी भेजें