You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

शनिवार, 23 जुलाई 2011

नैनीताल में शौर्य दिवस की तैयारियां जोरों पर


डीएम की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में तय हुई कार्यक्रमों की रूपरेखा
नैनीताल (एसएनबी)। करगिल में दुश्मनों के दांत खट्टे करने वाले दिन को नैनीताल जनपद के लोग शान के साथ मनाएंगे। इस मौके पर मुख्यालय में पुलिस व सेना के जवान तथा एनसीसी की तीनों यूनिटों के कैडेट करगिल युद्ध के शहीदों को जनपद की ओर से परेड के जरिये श्रद्धा-सुमन अर्पित करेंगे। शहीदों के आश्रितों व घायल सैनिकों का भी सम्मान किया जाएगा। ब्लाकस्तर पर भी सैनिकों के सम्मान में कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसके अलावा स्कूली बच्चों की निबंध व चित्रकला प्रतियोगिताएं आयोजित होंगी। शुक्रवार को झीविप्रा सभागार में आगामी 26 जुलाई को कारगिल दिवस को शौर्य दिवस के रूप में मनाये जाने के लिए डीएम शैलेश बगौली की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में यह निर्णय लिय गए। तय हुआ कि आयोजन पुलिस लाइन के परेड ग्राउन्ड में आयोजित होगा। सुबह 9.30 बजे से 10.30 बजे तक स्कूलों के बच्चों की पेटिंग प्रतियोगिता, 11 बजे से शहीदों के चित्रों पर माल्यार्पण तथा गार्ड ऑफ ऑनर के बाद पुलिस, सेना व एनसीसी टुकड़ी द्वारा परेड के बाद मुख्य अतिथि को सलामी दी जाएगी। इस दौरान शहीदों के परिजनों तथा करगिल युद्ध में शामिल रहे सैनिकों को सम्मानित किया जाएगा। आयोजन को सफल बनाने के लिए एसडीएम सदर, पुलिस सीओ, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी, जिला सूचना अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी, अधिशासी अधिकारी पालिका व सभी राजनीतिक दलों के जिलाध्यक्षों को सम्मलित कर एक समिति का गठन किया गया। डीएम ने राजनीतिक दलों व आम जनता से इस समारोह में उपस्थित होने की अपील की।
करगिल में नैनीताल के पांच लाड़ले हुए थे शहीद
नैनीताल। करगिल युद्ध में देश ने अपने जिन 523 बेटों को खोया, उनमें नैनीताल जनपद के पांच लाडले भी शामिल थे। इनमें नगर के मेजर राजेश अधिकारी, कोश्यां कुटौली के लांस नायक चंदन सिंह, रामनगर के राम प्रसाद ध्यानी, हल्द्वानी के चंदन सिंह, मोहन सिंह व मोहन चंद्र जोशी के नाम शामिल है। हवलदार डीबी पाल को गोली लगने से अपना एक पैर गंवाना पड़ा। नायक कैलाश चंद्र के हाथ में गोली लगी। सिपाही महेश चंद्र पाठक व प्रीतम सिंह, हवलदार वीर सिंह व आनरेरी नायब सूबेदार गंगा सिंह भी गोलियों से घायल हुए देश के 1363 सैनिकों में शामिल थे।
एक टिप्पणी भेजें