You'll also like

मेरे अन्य ब्लॉग

बुधवार, 1 जून 2011

स्ट्रीट लाइटों से रोशन होंगे राज्य के सीमावर्ती इलाके


केंद्रीय वैकल्पिक ऊर्जा मंत्रालय से मिले 80 लाख रुपये दो माह के भीतर लगा दी जाएंगी सोलर लाइटें
नैनीताल (एसएनबी)। प्रदेश सरकार राज्य के सीमावर्ती क्षेत्रों में एक लाख परिवारों को मुफ्त सोलर लालटेन बांटेगी। इसके अलावा सीमावर्ती इलाकों को 13 हजार सोलर स्ट्रीट लाइटों से भी रोशन किया जाएगा। राज्य सरकार को केंद्रीय वैकल्पिक ऊर्जा मंत्रालय से इस हेतु 80 लाख रुपये प्राप्त हो गए हैं। राज्य के वैकल्पिक ऊर्जा मंत्री राजेंद्र भंडारी ने बताया कि पिथौरागढ़, चंपावत, बागेश्वर, ऊधमसिंहनगर तथा चमोली सहित आधा दर्जन सीमावर्ती जिलों में अगले दो माह के भीतर सोलर लालटेन व सोलर स्ट्रीट लाइट लगा दी जाएंगी। काबीना मंत्री श्री भंडारी ने बताया कि राज्य के सीमावर्ती इलाकों से पलायन को रोकने के उद्देश्य से यह योजना केंद्र सरकार से स्वीकृत हुई है। इस मद में 80 लाख रुपये प्राप्त हो चुके हैं। लालटेनों व स्ट्रीट लाइटों की खरीद के लिए निविदा प्रक्रिया शुरू की जा रही है। इसके साथ ही राज्य में सौर ऊर्जा से चलने वाले वाटर हीटरों की खरीद पर 70 फीसद का अनुदान दिया जा रहा है। उन्होंने राज्य में 10-10 मेगावाट क्षमता के पांच सोलर प्लांट लगाए जाने की योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसे पांच-पांच मेगावाट क्षमता के पांच सोलर प्लांट हाल में लगा दिए गए हैं। साथ ही उन्होंने टिहरी गढ़वाल के बछेलीखाल में 2.4 मेगावाट क्षमता का हवा से चलने वाले प्लांट की जानकारी भी दी। इसकी सफलता के बाद राज्य में और विंड मिल लगाई जाएंगी। उन्होंने राज्य में विद्युत उत्पादन क्षमतायुक्त घराट लगाने पर 1.16 लाख व सामान्य यांत्रिक घराट बनाने के लिए 41 हजार रुपये दिए जाने की योजना की भी जानकारी दी। वैकल्पिक ऊर्जा मंत्री ने बताया कि प्रदेश में अभी पिरुल आधारित कोई बड़ा प्रोजेक्ट प्रस्तावित नहीं है। उल्लेखनीय है कि हाल में उरेडा के माध्यम से अल्मोड़ा में 10 मेगावाट क्षमता का प्लांट लगने की र्चचाओं के बाद केंद्रीय ऊर्जा मंत्री फारूक अब्दुल्ला ने गत दिवस नैनीताल राजभवन प्रवास के दौरान ग्रामीण महिलाओं की सहभागिता से पिरुल से ईधन बनाने की छोटी योजनाओं को प्रोत्साहन देने के लिए बड़ी योजनाओं को हतोत्साहित करने तथा इस पर दिये जाने वाले दो फीसद अनुदान को भी समाप्त किए जाने की बात कही थी।
एक टिप्पणी भेजें